Activities


भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, जबलपुर एवं कानपुर की पंचवार्षिक समीक्षा दल की बैठक का आयोजन

कृषि विज्ञान केन्द्र, हमीरपुर में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली द्वारा गठित उच्च स्तरीय क्यूनिकोनियल रिव्यू टीम ने भ्रमण किया। टीम के अध्यक्ष डा. रामचन्द्र, पूर्व एडीजी, आईसीएआर, नई दिल्ली, सदस्य डा. मथुरा राय, पूर्व निदेशक, आईसीएआर-आईआईवीआर, वाराणसी, डा. वाई.पी.एस. डबास, पूर्व निदेशक प्रसार, जी.बी. पन्त कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, पन्तनगर, डा. ओ.पी. सिंह, पूर्व निदेशक प्रसार, सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, मेरठ, डा. एस.आर.के. सिंह प्रधान वैज्ञानिक, आईसीएआर-अटारी, जबलपुर, डा. एन.के. बाजपेयी, निदेशक प्रसार, बाँदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, बाँदा, डा. ए.के.चैहान, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष, केवीके, ललितपुर व डा. नरेन्द्र सिंह, सह निदेशक प्रसार, बाँदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, बाँदा ने केन्द्र में स्थापित विभिन्न प्रदर्शन इकाईयों-बकरी पालन, डेयरी, वर्मी कम्पोस्ट, क्राप कैफेटेरिया, न्यूट्री गार्डन, MIDH, IFS माडल का निरीक्षण किया एवं वैज्ञानिकों के द्वारा किए गये कार्यों की सराहना की। इस दौरान जनपद के किसानों के साथ गोष्ठी का आयोजन किया गया और किसानों के मुखारबिन्दु से कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न गतिविधियों व तकनीकियों के बारे में जानकारी ली। साथ ही साथ कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा जनपद में चलाई जा रही तकनीकियों का ग्राम चंदौखी, वि.ख.-सुमेरपुर में खरीफ प्याज की अग्रिम पंक्ति प्रर्दशन का किसानों के प्रक्षेत्र पर जा कर निरीक्षण किया एवं किसानों से वार्ता की तथा उनके द्वारा किये गये कार्यों की सराहना की। वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डा. मो. मुस्तफा ने केन्द्र की प्रगति को अवगत कराया एवं वार्तालाप तथा निरीक्षण के दौरान केन्द्र के वैज्ञानिक, समस्त स्टाफ व 40 कृषक उपस्थित रहे।


राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम

दिनांक 11-09-2019 को कृषि विज्ञान केंद्र, हमीरपुर के सभागार में राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम/राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। साथ ही मा॰ प्रधान मंत्री जी द्वारा कार्यक्रम के शुभारंभ का सीधा प्रसारण कृसकों को दिखाया गया। इस अवसर पर केंद्र व ग्राम रघवा में पशु वैज्ञानिक डॉ. सूर्य प्रताप सोमवंशी की उपस्थिति में पशुओं का टीकाकरण व रोगों की जाँच की गयी।


पशु स्वास्थ्य एवं टीकाकरण कैम्प

दिनांक 02.07.2019 को कृषि विज्ञान केंद्र व पशु पालन विभाग हमीरपुर;उण् प्रण्द्ध द्वारा ग्राम चंद्रपुरवा बुजुर्ग में पशु स्वास्थ्य एवं टीकाकरण कैम्प का आयोजन किया गया। डॉ एसण् पीण् एसण् सोमवंशी व डॉ एसण् पीण् सोनकर ने बरसात के दौरान पशुओं मे होने वाली बीमारी के बारे मे जानकारी दी। कैम्प मे 32 पशुओं को कृमिनाशी दिया गया तथा 480 पशुओं का गला.घोटू बीमारी से बचाव के लिए टीकाकरण भी किया गया।


ऑफ कैम्पस प्रशिक्षण

दिनांक 29.06.2019 को डॉ एस. पी. एस. सोमवंशी, वैज्ञानिक पशु विज्ञान द्वारा पशुओं में दूध उत्पादन में सुधार के लिए फीडिंग तकनीक पर सुमेरपुर ब्लॉक में प्रशिक्षण दिया गया। जिसमे 30 किसानों ने प्रतिभाग किया ।


ऑफ कैम्पस प्रशिक्षण

दिनांक 29.06.2019 को डॉ प्रशांत कुमार वैज्ञानिक उद्द्यान विज्ञान ने ग्राम सौंखर मे आम की तोड़ाई के बाद की तकनीकी एवं मूल्य संवर्धन पर प्रशिक्षण दिया ।


ऑफ कैंपस प्रशिक्षण

दिनांक 15.06.2019 को डॉ फूल कुमारीए वैज्ञानिकए गृह विज्ञानए कृषि विज्ञान केंद्र ने परिवार की दैनिक आवश्यकता के लिए मौसमी सब्जियां उगाने के साथ.साथ पैसे बचाने के लिए किचन.गार्डन के माध्यम से घरेलू खाद्य सुरक्षा पर ऑफ कैंपस प्रशिक्षण का आयोजन किया। कार्यक्रम में सत्ताईस कृषक महिलाओं ने भाग लिया।


SHGs Meeting 15-06-19

दिनांक 15.06.2019 को डॉ फूल कुमारीए वैज्ञानिक गृह विज्ञान ने ग्राम सौंखर में ैभ्ळ महिलाओं के साथ समूह की बैठक का संचालन किया। बैठक में बीस महिलाओं ने भाग लिया।


प्रशिक्षण कार्यक्रम.मृदा स्वास्थ्य और पोषक प्रबंधन

दिनांक 12.06.2019 को डॉ शालिनीए वैज्ञानिक सस्य विज्ञान ने मृदा नमूना लेने की विधि का प्रदर्शन किया और हमीरपुर जिले के सौंखर गाँव में ष्मृदा स्वास्थ्य और पोषक प्रबंधनष् विषय पर व्याख्यान दिया। कार्यक्रम में बत्तीस किसानों ने भाग लिया और ग्यारह मिट्टी का नमूना परीक्षण के लिए एकत्र किया गया।


द मिलियन फार्मर्स स्कूल कार्यक्रम की लाइव स्ट्रीमिंग

दिनांक 09.06.2019 को कार्यक्रम का सीधा प्रसारण वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किसानों को दिखाया गया है। माननीय मुख्यमंत्रीए उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों से सीधा संपर्क किया। कार्यक्रम में सत्तर लोगों ;किसानोंए लाइन विभाग के अधिकारियोंए केवीके वैज्ञानिकोंद्ध ने भाग लिया।


बुदेलखंड जैविक कॉरिडोर कार्यक्रम

कृषि विज्ञान केंद्र ने उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले के चंद्रपुरवा गाँव में बुदेलखंड जैविक कॉरिडोर कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का एजेंडा मानव के स्वस्थ जीवन और किसानों की आय को दोगुना करने के लिए जैविक खेती को बढ़ावा देना है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बीयूएटीए बांदा के कुलपति डॉ यूण्एसण् गौतम ने किसानों को फसलों के जैविक उत्पादन के लिए प्रेरित किया और जैविक उत्पादों के महत्व को समझाया। डॉ देव सिंहए प्रगतिशील किसानए हमीरपुर जिले ने बुंदेलखंड जैविक कॉरिडोर की अवधारणा को समझाया कि यह मॉडल पूरे बुंदेलखंड क्षेत्र में धीरे.धीरे कैसे लागू किया जाएगा। विशिष्ट अतिथि श्री आरण्केण् सिंहए सीडीओए हमीरपुर ने भी किसानों को इस मॉडल को लागू करने के लिए सरकारी विभाग से सहायता का आश्वासन दिया।


प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि

दिनांक 24.02.2019 को कृषि विज्ञान केन्द्र, कुरारा, हमीरपुर द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अवसर पर रबी किसान सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि श्री अशोक सिंह चन्देल, माननीय विधायक सदर, हमीरपुर के कर कमलों द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रीमती जयन्ती राजपूत, माननीय जिला पंचायत अध्यक्ष, हमीरपुर द्वारा की गयी। इस कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री आर. के. सिंह, मुख्य विकास अधिकारी, हमीरपुर, श्री सिद्धगोपाल अहिरवार, माननीय क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष, कुरारा, हमीरपुर, श्री ब्रजकिशोर गुप्ता, क्षेत्रीय मंत्री, भाजपा, कानपुर-बुन्देलखण्ड, श्री सिद्धार्थ सिंह, जिला उपाध्यक्ष, किसान मोर्चा, हमीरपुुर, श्री जीशान रिजवी, उपायुक्त स्वतः रोजगार, श्री बलराम दादी उपस्थित रहे। मा0 मुख्य अतिथि जी ने कृषक महिलाओं एवं किसानों तक क्लस्टर के माध्यम से कृषि तकनीकी को प्रसारित करने एवं किसान को जागरूक करने के लिए प्रेरित किया। साथ ही साथ क्राप कैफेटेरिया का भ्रमण करते हुये कृषि विज्ञान केन्द्र के कार्यों की सराहना की, खरीफ प्याज, ब्रोकली, लाल पत्ता गोभी, किचन-गार्डन, फसलों की विभिन्न प्रजातियों की सराहना की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही श्रीमती जयन्ती राजपूत जी ने किसानों से अनुरोध किया कि केन्द्र में वैज्ञानिकों प्रदर्शित विभिन्न तकनीकों से अत्याधिक जानकारी लेते हुए सन् 2022 तक किसान भाई अपनी आय दोगुनी करने का प्रयास करें। केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डा. मो. मुस्तफा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए केन्द्र की विस्तृत जानकारी दी। कार्यक्रम में जिले के 452 किसान एवं कृषक महिलाओे ने अपनी सहभागिता सुनिश्चित की। इस कार्यक्रम में माननीय प्रधानमंत्री 53वें मन की बात संस्करण का सीधा प्रसारण दिखाया गया।


केन्द्र के मैन्डेट के अन्तर्गत सम्पादित की जाने वाली विभिन्न गतिविधियाँ

प्रशिक्षण कार्यक्रम-उद्यान विज्ञान

दिनांक 28-08-2018 को डा. प्रशांत कुमार, वैज्ञानिक उद्यान विज्ञान, कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा, हमीरपुर द्वारा किसानो को उद्यानिकी फसलों पर ट्रेनिंग दी गयी तथा केंद्र पर स्थापित उद्यानिकी नर्सरी में भ्रमण कराया गया।

प्रसार कार्यकर्ता प्रशिक्षण

दिनांक 28-09-2018 को डॉ फूल कुमारी, गृह वैज्ञानिक द्वारा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के कार्यकुशलता में संवर्धन हेतु कुपोषण निवारण स्थानीय उपलब्ध आनजो से पौष्टिक आहार बनाने की जानकारी दी गयी। जिसमे कुपोषण निवारण हेतु मिश्रित पोशक लड्डू, पोशक पाउडर आदि बनाने की विधिवत जानकारी दी गयी और मिश्रित आनजों का सेवन करने की सलाह दी |


महिला कृषक केवीके प्रक्षेत्र भ्रमण

दिनांक 23-12-2018 को महिला कृषकों ने केवीके मे स्थापित किच्चन-गार्डेन का भ्रमण किया जिसमे गृह वैज्ञानिक डॉ फूल कुमारी ने महिला कृषकों को किच्चन-गार्डेन की उपयोगिता एवं इसे स्थापित करने की वैज्ञानिक विधि को विस्तार पूर्वक समझाया।


प्रशिक्षण कार्यक्रम (ग्रामीण युवक एवं युवतियाँ)

दिनांक 28-12-2018 को एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में केंद्र के वारिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष ने जैविक खेती के महत्व और वायवीद खाद के महत्व को ग्रामीण युवाओं को समझाया | साथ ही उन्होने ने यह भी समझाया की किस प्रकार जैविक खाद बनाकर कृषि उत्पाद की गुणवत्ता को सुधारा जा सकता है और रोजगार के नए अवसर प्राप्त किए जा सकते हैं | सस्य वैज्ञानिक डॉ शलिनी ने वायवीद खाद बनाने की विधि को पावर पॉइंट के माध्यम से ग्रामीण युवाओं को सिखाया |

पौध सामग्री वितरण

दिनांक 08-01-2019 को कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा, हमीरपुर द्वारा किसानो को सब्जियो की खेती को प्रोत्साहित करने हेतु पौध सामग्री का वितरण किया गया।

उत्थान : अ स्टार्ट अप निर्माण एग्रीपेन 2019

दिनांक 18-01-2019 को कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा, हमीरपुर एवं अमरउजाला द्वारा बेरोजगार युवको के लिए कृषि उद्यमिता को बढ़ावा देने हेतु उत्थान : अ स्टार्ट अप निर्माण एग्रीपेन 2019 का आयोजन विकास खंड कुरारा परिसर में किया गया। कार्यक्रम में श्री अभिषेक प्रकाश, जिलाधिकारी हमीरपुर जनपद, मुख्य विकास अधिकारी, उप कृषि निदेशक, जिला उद्यान अधिकारी, ब्लॉक प्रमुख, कुरारा सहित 165 युवा किसान मौजूद रहे ।

प्रक्षेत्र भ्रमण

दिनांक 19-01-2019 को कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा, हमीरपुर के कृषि वैज्ञानिकों ने कृषक के प्रक्षेत्र पर किया और समूह अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन के तहत सरसों (प्रजाति: आर. एच.-406) की फसल का निरीक्षण किया ।

प्रक्षेत्र/नैदानिक भ्रमण

दिनांक 19-01-2019 को कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा, हमीरपुर के कृषि वैज्ञानिक डॉ. प्रशांत कुमार व डॉ शालिनी ने कृषक के प्रक्षेत्र पर भ्रमण किया और बैगन की फसल में रोग निदान तथा सब्जियों की उत्पादन बढ़ाने के लिए सलाह दी |


बुंदेलखंड जैविक कॉरीडोर

आज दिनांक 02-02-2019 को कृषि विज्ञान केंद्र, हमीरपुर द्वारा अटारी, कानपुर के तत्वाधान में बुंदेलखंड जैविक कॉरीडोर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य बुंदेलखंड में जैविक कॉरिडोर की स्थापना कर जैविक खेती को बढ़ावा देना है। जिससे बुंदेलखंड का कृषक समृद्ध व खुशहाल बन सके। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डॉ. यू.एस. गौतम, मा० कुलपति, बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, बांदा, विशेष अतिथि डॉ. एन.के. बाजपेयी, निदेशक कृषि प्रसार, डॉ. नरेंद्र सिंह, सह निदेशक कृषि प्रसार, डॉ. जी.एस. पवार, अधिष्ठाता, कृषि महाविद्यालय, डॉ. सत्यव्रत द्विवेदी, अधिष्ठाता, उद्यानिकी महाविद्यालय, डॉ. संजीव कुमार, अधिष्ठाता, वानिकी महाविद्यालय, डॉ. बी.के. गुप्ता, सहायक प्राध्यापक, बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, बांदा, केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक, डॉ. मो. मुस्तफा, व अन्य सभी 6 कृषि विज्ञान केन्द्रो के अध्यक्ष, डॉ. जितेंद्र सिंह, सह प्राध्यापक, सी.एस.ए.यू.टी, कानपुर, श्री संजीव येमुल, चीफ़ टेक्निकल ऑफिसर, अटारी, कानपुर, श्री आर. के. सिंह, मुख्य विकास अधिकारी, हमीरपुर व कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिले के प्रगतिशील कृषक डॉ. देव सिंह सहित बुंदेलखंड के 6 जिलों (बांदा, हमीरपुर, महोबा, जालौन, झाँसी, ललितपुर) के प्रगतिशील कृषक उपस्थित रहे।